गोधरा (कडियाड़) के लोगों से CEO प्रदीप भंडारी की चुनावी मंतव्य पर चर्चा: पढ़ें रिपोर्ट

गोधरा (कडियाड़) के लोगों से CEO प्रदीप भंडारी की चुनावी मंतव्य पर चर्चा: पढ़ें रिपोर्ट

जमीनी हकीकत‘ जानने की उम्मीद से हम पूरे गुजरात में भ्रमण पर हैं और हमने इस भ्रमण को ‘चुनावी यात्रा‘ का नाम दिया है. इसी कड़ी में गोधरा (कडियाड़) के लोगों ने CEO प्रदीप भंडारी से चुनावी मंतव्य के विषय में चर्चा की. ‘जन की बात‘ के सभी दर्शकों एवं पाठकों को हम गुजरात के सच और केवल सच से परिचय करवाने के मकसद से हर उस विधानसभा, हर उस क्षेत्र, हर उस गली और उस व्यक्ति से बात कर रहे हैं जो हमे लगता है की आपके लिए जरुरी हैं. और हम लगातार इसी प्रयास में हैं की किस प्रकार हम आपके सबके बीच ईमानदारी से गुजरात की जनता का मंतव्य रख सकें. इस पूरे सफर में अबतक हमे आप सभी का भरपूर समर्थन मिला है और गुजरात की जनता ने भी हमारा स्वागत खुले हाथों से किये है. इस बात का सबूत है की हम गुजरात चुनाव में प्रदेश में देखे जाने वाले सर्वश्रेष्ठ ३ प्लेटफॉर्म्स में से एक हैं और इस उपलब्धि के साथ ही साथ आप सभी को यह बताते हुए भी हर्ष की अनुभूति हो रही है की हमारे ओपिनियन पोल की कवरेज नेशनल मीडिया ने बढ़ चढ़ कर की जिसमे प्रमुख नाम थे Republic, News24, NewsX, जनसत्ता और नवसमय गुजरात.

इसी चुनावी यात्रा की कड़ी में हम हाल ही में गोधरा (कडियाड) भी पहुंचे, जो पंचमहल जिले की एक विधानसभा है. २००२ में साबरमती ट्रेन की दुखद घटना इसी गोधरा के रेलवे स्टेशन पर घटी थी. हमारे CEO ने वहां मौजूद लोगों से बात की और उनकी राय जानी, आईये पढ़ते हैं उनकी वहां के लोगों से बातचीत के कुछ अंश:-

हम एक मुस्लिम बहुल इलाके, कडियाड में पहुंचे जहाँ हमने कुछ लोगों से बातचीत की. सबसे पहले हमने एक युवा से बात की जिससे जब हमने पूछा की गोधरा में काम हुआ है या नहीं,तो उस युवा का कहना था की गोधरा में कोई काम नहीं हुआ है. उस युवा ने आगे कहा की

काम ऐसा होना चाहिए की पब्लिक की सारी समस्या हल हो जाये, ऐसी स्थिति में किसी नेता को वोट मांगने भी नहीं आना पड़ेगा, जनता खुद-बा-खुद उसी नेता को वोट देगी.

पब्लिक की मांग के सवाल पर उसन युवक ने कहा की, रोड अच्छी होनी चाहिए, पानी और गन्दगी प्रमुखता से गोधरा के मुद्दे हैं. उस युवक ने कांग्रेस का पलड़ा भारी होते हुए बताया. और अपने हालिया विधायक सी. के. राउलजी की आलोचना करते हुए कहा की वो हमारे धर्म के वोट की महत्वता नहीं समझते हैं. एक बुजुर्ग ने भी सड़क की खस्ता हालत को अपनी समस्या बताया.

जिस कडियाड इलाके में हम पहुंचे थे वहां एक अंडे के विक्रेता ने बताया की यहाँ कांग्रेस मजबूत दिख रही है. उन्होंने इसकी वजह बीजेपी के काम न करने को बताया. एक और युवक ने बताया की सड़क के हाल खस्ता है और स्वास्थ्य के हालत भी बदतर हैं. गटर के पानी की समस्या भी है, और लोग उस वजह से बीमार भी होते हैं. सीईओ प्रदीप भंडारी ने यहाँ पाया की लोगों की मुख्यता तीन समस्याएं थी, सड़कों की समस्या, गटर के पानी भरता है (पानी साफ़ नहीं आता), और रोजगार के अवसर नहीं हैं. ज्ञातव्य हो की तत्कालीन विधायक कांग्रेस के थे.

यहां अपक्ष उम्मीदवार की कोई उम्मीद यहाँ के लोगों को नजर नहीं आती. यहाँ के मौजूदा विधायक, सी. के. राउलजी से लोग खासे परेशां दिखे, जिन्होंने अभी हाल ही में कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थामा है और अब भाजपा के ही टिकट से गोधरा से प्रत्याशी हैं.
यह थी हमारी कडियाड से रिपोर्ट, उम्मीद है आपको पसंद आयी होगी.

To read our Opinion Poll Report on Gujarat Assembly Election 2017, click here.

To read our [key takeaways] Opinion Poll Report on Gujarat Assembly Election 2017, click here.

 

यह स्टोरी स्पर्श उपाध्याय ने की है